Domain Authority Kya Hai? डोमेन अथॉरिटी क्या है?

Domain Authority Kya hai_डोमेन अथॉरिटी क्या है

 

Domain Authority Kya Hai? डोमेन अथॉरिटी क्या है जानिए हिंदी में 

(Domain Authority)डोमेन अथॉरिटी दरअसल (Moz) मोज़ की द्वारा दिया हुआ एक सर्च इंजन स्कोर है जो Predict  करता है अप्पके वेबसाइट या ब्लॉग सर्च रैंकिंग में कितना अच्छा रैंक करेगा.

हर वेबसाइट के अलग अलग का डोमेन अथॉरिटी होता है.जो 1 से  100 की रेंज में होती है.अप्पके स्कोर जीतन ज़ादा होगा आपका डोमेन अथॉरिटी इतना ही अच्छा होगा.हाला की गूगल ने DA के बारे में यह बात clear किया है की डा मोज़ द्वारा दिया गया एक एक्सटर्नल मीट्रिक है और गूगल सर्च इंजन रैंकिंग में यह कोई रैंकिंग फैक्टर नहीं है.

पर जबसे गूगल ने पब्लिक्ली/Publicly अपनी गूगल पेजरैंक (Page Rank) को डिस्कन्टिन्यूए किया लाखो लोगो के लिए DA वेबसाइट मेज़रमेंट का एक standard जरिया  बन गया है.

असलियत में गूगल ने बहुत समय तक पेज रैंक बोलके एक दूसरा अल्गोरिथम उसे करता था.पेज रैंक 15 साल पहले डेवलप्ड किया हुआ हिट्स(HITS) बोलके एक मातेमाटिकल Algorithm को उसे करता था.

हिट्स वेब्सीटेस को (Hubs)हब्स और (Authority)अथॉरिटीज इस दोनों केटेगरी में divide करता था.अच्छी साइट्स उसे मन जाता था जो हब्स साइट्स से ज्यादा लिंक्स gain करती थी.पर समय के साथ गूगल ने हिट्स अल्गोरिथ में चेंज लाये जिसके लिए गूगल ने अपना पॉपुलर पेज रैंक को उसे करना बंद कर दिया मार्च 7 2016 में.

हाला की पेज रैंक अब पब्लिक्ली अवेलेबल नहीं रहा पर गूगल अभी वि इंटरनली पेज रैंक उसे कर रहा है. पेज रैंक DA  की तरह ही गूगल की एक मीट्रिक हुआ करता था जो 1 से 10 की स्केल में गिना जाता था.जिस साइट का पेज रैंक जितना ज़ादा होगा वह साइट उतना ही अच्छा और गूगल में रैंकिंग की चांस उतना ही ज़ादा होती.

डोमेन अथॉरिटी १ से १०० लोगरिथ्मिक स्केल में मापा जाता हैं.इसका मतलब यह है की अप्पकी साइट का DA १०-२० की रेंज में increase करना काफी हद तक आसान है.लेकिन जितना अप्प इस रेंज की ऊपर जाना चाहेगे उतना ही यह ज़ादा मुश्क्लि होता जाएगा.

इसलिए जब वि अप्प कोई नई वेबसाइट या ब्लॉग स्टार्ट करते हैं उसका डा स्कोर २० रेंज तक तोह आसानी से आ जाती है पर उसके बाद डा को बढ़ाना ज़रा मुश्किल हो जाता है.

Domain Authority किसके ऊपर Depend करते हैं?

DA मैनली ४० फैक्टर्स के ऊपर देपेंद करता हैं.नोर्मल्ली डा साइट का लिंक प्रोफाइल, कंटेंट क्वालिटी, स्ट्रक्चर इस सब फैक्टर की ऊपर depend करता था.

हाला में मोज़ ने अपनी DA 2.0  Version वि लांच की.DA 2.0 वर्शन (Machine Learning)मशीन लर्निंग के ऊपर आधारित है जो न्यूरल नेटवर्क की उसे करता है.DA 2.0 को नील मर्तिन्सेन-बुररल्ल चास विल्लियम्स जैसे मोज़्ज़ेर्स ने develop किया. 

DA 2.0 सिर्फ लिंक का नंबर को काउंट नहीं करता उसके साथ सब लिंक्स कहा से आ रहा है सी सोर्स से यह सब लिंक आ रहा है यह सब फटोरस की ऊपर देपेंद करता है.नया DA 2.0 स्कोर एक रिलेटिव नंबर है जो अप्पको बहुत समझदारी से अप्पको समझना होगा.

मन लीजिये की अप्पकी वेबसाइट टेक्नोलॉजी की ऊपर है तोह अप्पको DA स्कोर काउंट सब समय अप्पनइ बिसय की वेबसाइट की साथ ही Compare करना चाइये.कोई वि Change  की साथ आपको यह ध्यान रखना चाइये की आपकी निचे में दूसरे साइट का DA चेंज हुआ की नहीं.नया DA 2.0 अब और वि Intelligent हो गई हैं और लिंक मैनीपुलेशन जैसे *Blackhat SEO) ब्लैकहैट SEO तकनीक को बहुत आसानी से डिटेक्ट करके उसको Calculate करते हैं.

DA 2.0  के पहले बहुत सारा Webmaster/वेबमास्टर्स अपनी डोमेन की DA बरने के लिए बहुत सारा ब्लैकहैट सो टेक्निक्स उसे करते थे. जिसमे एक्सपीरेड डोमेन को खरीदना लिंक्स Buy और Sell करना यह सब शामिल था.

लेकिन अब्ब मोज़ के DA 2.0 अपडेट के बाद यह सब बहुत हद तक काम हो गया है.

Page Authority Kay Hai:पेज अथॉरिटी क्या है?

डोमेन अथॉरिटी जैसे आपकी पूरी डोमेन की प्रेडिक्टिव रैंकिंग स्ट्रेंथ को शो करता है पेज अथॉरिटी वैसे ही अप्पकी वेबसाइट का हर एक पेज का प्रेडिक्टिव स्ट्रेंथ शो करता है.हमारे सुग्गेस्टिव  जब वि आप High Quality लिंक बनाये तोह आपने DA की बराबर या अपने वेबसाइट की ज़ादा DA वाली वेबसाइट से ही लिंक ले.इससे आपकी वेबसाइट की डा स्कोर काफी हद तक बार जाने की चांस है.

DA स्कोर कैसे चेक करे?Domain Authority Kaise Check Kare?

DA score चेक करने के लिए ऑनलाइन बहुत सरे टूल्स मौजूद हैं जैसे की लिंक एक्स्प्लोरर मज़बर (मोज़’स फ्री सो टूलबार) यह सब.इसके चोरके ऑनलाइन में और वि बहुत सो टूल हैं जससे से आप Bulk में बहुत सारि  वेब्सीटेस का डा स्कोर एकसाथ में जल्दी चेक कर सकते हैं.

पर डा चेक करते समय यह हमेशा ययद रखे की सिर्फ हाई DA स्कोर ही अप्पकी वेबसाइट को गूगल में टॉप रैंकिंग नहीं दिला सकती. गूगल में टॉप रैंकिंग के लिए सबसे इम्पोर्टेन्ट है आपका वेबसाइट का कंटेंट और अप्पकी वेब्सीटेस का इनबाउंड लिंक्स.यह दोनों फैक्टर जितना अच्छा होगा अप्पको आपकी वेबसाइट रैंक करवाने में उतना ही आसानी होगी.

अप्पकी डोमेन अथॉरिटी (DA) चेंज क्यों होता है? 

DA 2.0 रिलीज़ के बाद directly DA को कंटोल करना अब काफी मुश्किल हो गया है.मोज़ अब (Machine Learning)मशीन लर्निंग के ऊपर depend करके अपना DA स्कोर दे रहे है.अगर अप्पकी वेबसाइट का DA Recently चेंज हुआ है तोह इसके लिए कुछ फैक्टर्स काम कर रहे हैं:

  • पहला कारन, अप्पाका लिंक प्रोफाइल(Backlink Profile) अप्पकी कॉम्पिटिटर की तुलना में ज़ादा इनक्रीस नहीं हुआ.
  • दूसरा कारन,आप जिस जिस सोर्स से लिंक बना रहे हो उसका DA स्कोर अब उतना अच्छा नहीं रहा.
  • तीसरा कारन,मोज़ नहीं अप्पकी पूरी लिंक प्रोफाइल क्रॉल नहीं किया.

अपनी वेबसाइट या ब्लॉग का Domain Authority kaise badhaye? डोमेन अथॉरिटी कैसे बढ़ाये? 

हाला की जैसे में पहले ही डिसकस किया की DA 2.0 अब बहुद हद तक मशीन लर्निंग के ऊपर देपेंद करता हैं .

पर हम अभी वि  निचे दिए हुए टेक्निक्स का उसे करके अपना DA को इम्प्रोइ कर सकते हैं.

Domain Authority kaise badhaye
Domain Authority kaise badhaye

1. Quality कंटेंट लिखना:

अगर अप्पकी वेबसाइट की DA को improve करना है तोह यह सबसे बड़ा  फैक्टर हैं.अगर आपकी वेबसाइट का कंटेंट अच्छा होगा तोह दूसरे लोग अपने आप ही अप्पकी कंटेंट की शेयर करेंगे जो सोशल सिग्नल्स को इनक्रीस करने में आपकी हेल्प करेगा.DA इम्प्रूव करने में यह बहुत हेल्प करेगा.

2. अपनी वेबसाइट का इंटरलिंकिंग करे:

DA इम्प्रूव करने के लिए एक इम्पोर्टेन्ट फैक्टर हैं.अगर आप ब्लॉग पोस्ट करते हैं तोह अप्प हर एक पोस्ट को अपनी दूसरे पोस्ट के साथ इंटरलिंकिंक करे.इस तरह से इंटरलिंकिंग कारसे से अप्पकी वेबसाइट का यूजर नेविगेशन आसान हो जायेगा जो गूगल को वि अप्पकी वेबसाइट को अच्छी तरह से समाज ने में हेल्प करेहि.और अगर हूगले को अप्पकी वेबसाइट समझने में आसानी होगी तोह मोज़ वि अपनी DA काफी हद तक बड़ा देगी. 

गूगल की तरह मोज़ का वि अपनी crawlers है जो आपकी वेबसाइट को crawl करता है. अगर अप्पकी वेबसाइट को मोज़ आसानी से क्रॉल कर पायेगी तोह अप्पकी वेबसाइट को समझने मि मोज़ को वि आसानी होगी जो की अप्पकी वेबसाइट का डा स्कोर इम्प्रूव करने में हेल्प करेगी. 

3. दूसरे वेबसाइट में ब्लॉग कमेंट करे:

ब्लॉग कमेंट(Blog Comment) DA इम्प्रूव करने के लिए एक ज़रूरी तकनीक हैं.लेकिन ब्लॉग कमेंट करने के वि कुछ नियम है.बहुत सरे लोग ब्लॉग कमेंट ठीक तरह से कर नहीं पते.

मन लीजिये आप एक मोबाइल रिव्यु के ऊपर ब्लॉग पोस्ट पर रहे हैं और अप्प सिर्फ उस पोस्ट में जेक ‘नीस पोस्ट’ ‘Good पोस्ट’ ऐसा कुछ कमेंट करते हैं तोह यह Spamming  हो जायेगा.ब्लॉग कमेंट करने के लिए यह एकदम सही तकनीक नहीं है.

Blog  कमेंट कीसे करे?

सही तरह से ब्लॉग कमेंट करने के लिए आपको पहले उस ब्लॉग पोस्ट को अच्छी तरह से पर्ण और समझना चाइये.सही तरह से ब्लॉग को पर्ने के बाद उस पोस्ट की रिलेटेड एक अच्छ कमनेन्ट करना परता हैं.

ज़रूरी नहीं की अप्प उस ब्लॉग कमेंट में अपना website का URL डेल.पहले आप उस ब्लॉग में कुछ सही ढंग का कमेंट करे.उसके बाद जब अप्पको कोई अच्छा और रिलेटेड ब्लॉग पोस्ट मिले तो आप उसकी ऊपर अपनी कमेंट और वेबसाइट का लिंक दाल सकते है.

जादातर समय ब्लॉग कमेंट का लिंक नो-फॉलो रहता हैं पर तब वि अगर किसी हाई ट्रैफिक वेबसाइट में अप्प अच्छा कमेंट डालते हैं अपनी URL के साथ तोह उससे अप्पकी वेबसाइट में दूसरे विस्तार का आने का पॉसिबिल्टी बार जाता है.उसके साथ अप्पको एक बैकलिंक वि मिलता हैं जो आपकी डोमेन अथॉरिटी को इनक्रीस करने के लिए बहुत हेल्पफुल होती है.

4. वेबसाइट लोडिंग स्पीड:

किसी को वि Slow वेबसाइट पसंद नहीं.अगर अप्पकी वेबसाइट यूजर की डिवाइस में बहुत स्लो ओपन होता है तोह जादातर यूजर अप्पकी वेबसाइट को विजिट नहीं करेंगे.गूगल के एक सर्वे के मुताबिक, आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड ३ सेकंड से ज़ादा है तोह 53% मोबाइल उसेर्स अप्पकी वेबसाइट को कभी विजिट नहीं करेंगे.

और अगर वह यूजर अप्पकी वेबसाइट को विस्त वि करते हैं तोह ज़ादा से सदा वह एक ही पेज पर के बाउंस बैक करते हैं. इससे चलते अप्पकी वेनसिटे का (Bounce Rate)बाउंस रेट बार जाती हैं जिसके लिए गूगल की नजर में अप्पकी वेबसाइट का value काम हो जाती हैं.बाउंस रेट जितना ज़ादा होगा आपकी वेबसाइट की गूगल रैंकिंग की possibility उतनी ही काम हो जाएगी.गूगल rankink के लिए अब यूजर इंगेजमेंट को वि एक  important factor है.

अगर यूजर को आपकी वेबसाइट पसंद नहीं आ रही तोह आपकी वेबसाइट की डा स्कोर वि इनक्रीस नहीं हो पायेगी.

तोह अप्पकी website की लोडिंग स्पीड कैसे काम करे?

आपकी वेबसाइट की लोडिंग सप्पड़ काम करने के लिए पहले अप्पको जानना पड़ेगा की आपकी वेबसाइट का लोडिंग स्पीड कितना है.

अपणु वेबसाइट की लोडिंग स्पीड जानने के लिए बहुत सारा ऑनलाइन टूल्स मौजूद  हैं जिसमे से गूगल पेज स्पीड टूल, लाइटहाउस,GTMetrix यह ३ टूल अप्प उसे कर सकते हैं.यह तीनो टूल आपको बोल देंगे एक्साक्ट्ली अप्पकी वेबसाइट में कहा दिक्खत हो रही है और आपकी वेबसाइट स्लो क्यों हो रही है.

जादातर यह देखा गया हैं की वेबसाइट स्लो होने की 4 मैं कारन है :

  • स्लो होस्टिंग्
  • Uncompressed image aur javascript
  • In-line CSS 
  • Cache

अगर अप्प ऊपर की यह चारो फैक्टर्स को इम्प्रूव करलेते हैं तोह आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड काफी हद तक काम जो जाएगी.होस्टिंग के लिए आप किसी अच्छी कंपनी का वेबहोस्टिंग ले सकते हैं.

मेरी yeh suggestion रहेगी की अप्प क्लाउड होस्टिंग(CLOUD HOSTING) और CDN का उसे करे. अगर आप (WORDPRESS)वर्डप्रेस उसे करते हैं तोह अप्प किसी अच्छे कैश (PLUGIN)प्लुइगीन जैसे W3 TOTAL CACHE  उसे कर सकते हैं.यह एक फ्री प्लगइन है जी अप्पकी वेबसाइट का (HTML)हटम्ल,(JAVASCRIPT)जावास्क्रिप्ट को minify और कंप्रेस करके अप्पकी वेबसाइट का लोडिंग स्पीड काफी हद तक काम कर देता है.

5.(Guest Post )गेस्ट पोस्ट करे:

अगर अप्प अपनी वेबसाइट का DA  स्कोर इम्प्रूव करना कहते हैं तोह गेस्ट पोस्ट एक बहुत अच्छी तरीका हैं. मगर गेस्ट पोस्ट करने के लिए अप्पको कुछ फैक्टर्स को ययद रखना पड़ेगा.

आप जब वि किसी दूसरे की वेबसाइट में गेस्ट पोस्ट कर रहे हैं तोह पहले देखले की वह साइट अप्पकी रिलेटेड टॉपिक की है यह नहीं.हर समय यह धायण रखना ज़र्रोरी हैं की गूगल वह सब वेबसाइट को ज़ादा प्रायोरिटी देता हैं जसने अपनी टॉपिक की वेबसाइट से लिंक बनाया हैं.

सही तरह से गेस्ट पोस्ट करने पर अप्पकी वेबसाइट को अच्छा बैकलिंक और exposure मिल सकता हैं जो बाद में अप्पकी वेबसाइट की DA स्कोर इम्प्रूव करने की लिए बहुत हेल्पफुल होती है.

असा करते हैं की आपका हमारा यह पोस्ट Domain Authority Kya Hai अच्छी लगी होगी.अगर आपकी यह पोस्ट अच्छी लगी तोह अप्प जरूर इस पोस्ट को अप्पनइ दोस्तों के साथ share करे.और है अगर अप्पको DA की बारे में और जानना है तोह निचे कमेंट बॉक्स में ज़रूर कमेंट करे.

Soumik Ghosh

About Soumik Ghosh

सौमिक घोष[Soumik Ghosh] हिंदी खबरि का एडमिन हैं. SEO और इंटरनेट मार्केटिंग में लगभग 10+ इयर्स का एक्सपेरिंस है उनको. वह मैनली टेक्नोलॉजी और डिजिटल मार्केटिंग के ऊपर लिखते है पर हिंदी में उनको बहुत दिलचस्पी होने के कारन वह हिंदी में वि ब्लॉग लिखते है. SEO और इंटरनेट मार्केटिंग को चोरके उन्हें गण सुन्ना और ऑनलाइन वीडियो देखना बहुत पसंद है. वह अंरेज़ी में वि और एक ब्लॉग टेककीबीएस. कॉम [Tekkibytes.com] का ओनर है जहा वह टेक्नोलॉजी और SEO की बारे में अंरेज़ी में वि लिखते हैं.

View all posts by Soumik Ghosh →

14 Comments on “Domain Authority Kya Hai? डोमेन अथॉरिटी क्या है?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *